in

क्या खत्म हो गया हनीमून पीरियड, कांग्रेस के लिए फिर बजी खतरे की घंटी…?

क्या खत्म हो गया हनीमून पीरियड, कांग्रेस के लिए फिर बजी खतरे की घंटी…?

पांवटा साहिब विधानसभा क्षेत्र में महिला महापंचायत और कार्यकर्ता सम्मेलन के दौरान सामने आई गुटबाजी ने एक बार फिर कांग्रेस हाईकमान के लिए चुनौती खड़ी कर दी है।

लंबे समय से पूर्व विधायक और पीसीसी के उपाध्यक्ष चौधरी किरनेश जंग और डीसीसी के महासचिव हरप्रीत सिंह रतन एक दूसरे के सुर में सुर मिला रहे थे। उनकी इस जुगलबंदी ने विरोधियों के लिए कड़ी चुनौती पेश की।

हालंकि शुरू से ही दोनों नेताओं में इस बात को लेकर सहमति थी की वे अपनी अपनी टिकट की दावेदारी पेश करेंगे और अंतिम चरण तक अपने हक की लड़ाई लड़ेंगे। दोनों एक साथ जनसंपर्क अभियान चला रहे थे।

Plot for sale
Plot for sale

कबीले जिक्र है कि राजनीति के जानकर शुरू से ही ये मानकर चल रहे थे कि दोनों की जुगलबंदी में देर सवेर हरप्रीत सिंह रतन खेमा अपनी पहचान कायम नही रख पाएगा। उन्हें अपना वजूद कायम रखने के लिए अलग लाइन पर लड़ना होगा। ऐसे में न चाहते हुए भी चुनाव से पहले दोनों अलग हो जाएंगे।

Kidzee 02
Kidzee 02

हुआ भी ऐसा ही शुक्रवार को पांवटा साहिब विधानसभा क्षेत्र में आयोजित हुए ब्लॉक कांग्रेस महिला महापंचायत और कार्यकर्ता सम्मेलन में दोनों के बीच दूरी उभर आई।

दरअसल, इसकी शुरुवात नाहन में पीसीसी अध्यक्षा प्रतिभा सिंह के दौरे से जुड़ी है। कार्यक्रम में विधानसभा में विपक्ष के उपनेता, शिलाई के विधायक और वरिष्ठ कांग्रेस नेता हर्ष वर्धन चौहान को मान सम्मान न मिल पाने के कारण, जिला सिरमौर के कांग्रेस के नेताओं की एक बड़ी लौबी ने अलग होकर अपनी आवाज बुलंद कर दी। इसमें पांवटा साहिब कांग्रेस से हरप्रीत रतन भी शामिल रहे। तभी से किरनेश जंग और हरप्रीत रतन में दूरी बढ़ने लगी।

Republic Day 01
Republic Day 01

बात और भी बढ़ गई जब हरप्रीत रतन ने ये कह कर पीसीसी अध्यक्षा प्रतिभा सिंह का अलग इस्तकबाल किया कि उन्हें पार्टी के कार्यक्रम ने आमंत्रित नही किया गया। मुस्लिम नेता शमशेर अली और जगदीश चौधरी भी उनके साथ रहे।

जब दोनों नेता चुनाव से ठीक पूर्व अपने रास्ते अलग कर रहे हैं तो ये बड़ा सवाल खड़ा हो गया है कि कांग्रेस सत्तारोधी रुझान का लाभ कैसे उठा पाएगी ? दोनों नेताओं की जुगलबंदी पर नजर रख रहे विरोधियों की माने तो दोनों के बीच हनीमूनअवर खत्म हो गए हैं। ऐसे में अगर कांग्रेस हाई कमान ने इसे गंभीरता से न लिया तो आने वाले दिनों में गुटबाजी की ये खाई बढ़ती नजर आएगी।

न्यूज़ घाट पर फेसबुक से जुड़ने के लिए यहां दिए लिंक @newsghat पर क्लिक कर फेसबुक पेज लाइक करें। 

Written by newsghat

धान की फसल में बीमारी पर नियंत्रण के लिए केवीसी धौलाकुआं के वैज्ञानिकों ने सुझाए उपाय, जाने क्या है ये फायदेमंद उपाय...

धान की फसल में बीमारी पर नियंत्रण के लिए केवीसी धौलाकुआं के वैज्ञानिकों ने सुझाए उपाय, जाने क्या है ये फायदेमंद उपाय…

पांवटा साहिब में हरियाली तीज के शुभ अवसर पर इनरव्हील क्लब द्वारा आयोजित किया गया कार्यक्रम….