in ,

क्यूं है कोरोना का नया स्ट्रेन पहले से अलग और ज्यादा खतरनाक…

क्यूं है कोरोना का नया स्ट्रेन पहले से अलग और ज्यादा खतरनाक…

क्यूं है कोरोना का नया स्ट्रेन पहले से अलग और ज्यादा खतरनाक…

Admission notice

सीएम जयराम ने दी ये अहम जानकारी, जो आपको जाननी चाहिए….

JPREC-June
JPREC-June
Sniffers 04
Sniffers 04

क्या हैं कोरोना के नए स्ट्रेन के लक्षण, ना बुखार ना खांसी….

न्यूज़ घाट/शिमला

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद चिकित्सा महाविद्यालय टांडा के परिसर में प्रदेश में कोविड महामारी की स्थिति की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश की जनता से कोरोना महामारी के प्रति और अधिक सतर्क रहने का आह्वान किया है।

उन्होंने कहा कि इस बार यह वायरस अधिक प्रभावशाली और खतरनाक बनकर लौटा है।

क्यूं है कोरोना के नए स्ट्रेन पहले से अलग..

सीएम ने कहा कि स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कोरोना के नए स्ट्रेन का अध्ययन करने के उपरान्त पाया है कि इसमें खांसी और बुखार जैसे कोई लक्षण सामने नहीं आ रहे हैं।

इसके बजाए अब मरीजों को जोड़ों में दर्द, शारीरिक कमजोरी, कम भूख लगने और कोविड-19 निमोनिया जैसी समस्याएं आ रही हैं।

उन्होंने कहा कि पूर्व में सामने आए मामलों के मुकाबले इस बार मरीजों का स्वास्थ्य बिगड़ने में कम समय लग रहा है और कभी-कभी कोई भी लक्षण सामने नहीं आ रहा है।

इसलिए स्वयं, परिवार और समाज को खतरे में डालने से बेहतर है कि हम और अधिक सतर्क रहें।

चिकित्सा अधिकारियों व प्रशासन को दिए ये अहम निर्देश….

सीएम जयराम ठाकुर ने चिकित्सा अधिकारियों और स्थानीय प्रशासन को उन लोगों पर कड़ी निगरानी रखने को कहा जो होम क्वारंटीन में रखे गए हैं।

उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों की निगरानी करने और इस घातक महामारी के विरूद्ध लड़ने तथा एहतियाती उपायों के प्रति समाज को जागरूक करने के लिए स्थानीय पंचायती राज प्रतिनिधियों को शामिल किया जाना चाहिए।

कोरोना से ऐसे बचाएं खुद को…..

सार्वजनिक स्थानों में लोगों को बिना मास्क के घुमने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। दुकानदारों को बिना मास्क के लोगों को अपनी दुकानों में आने की अनुमति नहीं देनी चाहिए।

इस महामारी को दूर रखने के लिए उचित स्वच्छता सम्बन्धी आदतें अपनाना जरूरी है और परस्पर दूरी के नियमों का पालन किए बिना हम कोरोना को नहीं हरा सकते हैं।

ये भी पढ़ें : जब 12 साल की मासूम ने मां के पास जाने से किया इंकार….

स्वास्थ्य विभाग के सभी सुरक्षा मानकों को अपना कर हम सुरक्षित रह सकते हैं जिससे हमें आर्थिक गतिविधियों को सुचारू रखने में सहायता मिलेगी और देश और प्रदेश की विकास, उन्नति और आर्थिकी प्रभावित नहीं होगी।

फेफड़ों को यूं कर रहा प्रभावित ये नया वायरस….

जयराम ठाकुर ने कारोना वायरस का सामुदायिक संक्रमण रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग को कोरोना वायरस सम्बन्धी परीक्षणों को बढ़ाने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस का नया रूप हमारे नासाग्रसनी (नेसोफिरेंजियल) भाग में नहीं रहता है और यह सीधे तौर पर फेफड़ों को प्रभावित कर रहा है।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग लोगों को इस कठिन समय में प्रोत्साहित करे ताकि वे इस घातक महामारी से कम से कम प्रभावित हों।

ये भी पढ़ें : Crime : पति और ससुरालियों के खिलाफ दहेज के लिए उत्पीड़न पर मामला दर्ज…

पुलिस की बड़ी कारवाई, नशे की खेप के साथ तस्कर गिरफ्तार

उन्होंने लोगों को सतर्क रहने और जहां तक सम्भव हो भीड़-भाड़ वाले स्थानों से बचने और सार्वजनिक स्थानों व परिवहन के उपयोग के दौरान हर समय मास्क पहनने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा कि बार-बार हाथ धोने की आदत को अपनाना चाहिए क्योंकि यह बेहतर स्वास्थ्य सुनिश्चित करता है। उन्होंने कहा कि लोगों की लापरवाही के कारण प्रतिदिन बड़ी संख्या में नए मामले सामने आ रहे हैं जो समाज को खतरे में डाल रहे हैं।

ये बोले चिकित्सा विशेषज्ञ……

इससे पूर्व, कांगड़ा जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. गुरूदर्शन गुप्ता ने कहा कि कोरोना के नए स्ट्रेन के मरीजों में बुखार के कोई भी लक्षण सामने नहीं आ रहे हैं लेकिन एक्स-रे की रिपोर्ट में निमोनिया के मामूली लक्षण सामने आ रहे हैं।

इसका अर्थ है कि इस वायरस का सीधा प्रभाव फेफड़ों पर पड़ रहा है, जिससे वायरल निमोनिया के कारण मरीजों को सांस सम्बन्धी गम्भीर दिक्कतों का सामना कर पड़ रहा है।

इससे यह साबित होता है कि कोरोना का नया स्ट्रेन अधिक जानलेवा और घातक है। उन्होंने कहा कि कोरोना की नई लहर पहले से अधिक जानलेवा है और हमें इस महामारी को हराने के लिए उचित स्वास्थ्य सम्बन्धी आदतों को अपनाना चाहिए।

Written by newsghat

जब 12 साल की मासूम ने मां के पास जाने से किया इंकार…..

जब 12 साल की मासूम ने मां के पास जाने से किया इंकार…..

आउटसोर्स कर्मचारियों का वेतन व ईपीएफ समय पर नहीं दिया तो सड़कों पर उतरेंगे…

आउटसोर्स कर्मचारियों का वेतन व ईपीएफ समय पर नहीं दिया तो सड़कों पर उतरेंगे…