Paonta Cong
in

नई शिक्षा नीति पर नाहन में राष्ट्रीय सम्मेलन शुरू, पदमश्री आरसी सोबती ने किया शुभारंभ

नई शिक्षा नीति पर नाहन में राष्ट्रीय सम्मेलन शुरू, पदमश्री आरसी सोबती ने किया शुभारंभ
नई शिक्षा नीति पर नाहन में राष्ट्रीय सम्मेलन शुरू, पदमश्री आरसी सोबती ने किया शुभारंभ

नई शिक्षा नीति पर नाहन में राष्ट्रीय सम्मेलन शुरू, पदमश्री आरसी सोबती ने किया शुभारंभ

2 दिवसीय सम्मेलन में देश भर से करीब 100 प्रतिभागी ले रहे हिस्सा

JPERC
JPERC

डा. यशवंत सिंह परमार डिग्री कॉलेज नाहन में नई शिक्षा नीति-2020 पर आज से राष्ट्रीय स्तर के सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है, जिसका शुभारंभ पदमश्री अवार्ड से सम्मानित प्रख्यात शिक्षाविद् आरसी सोबती ने किया। दो दिवसीय इस सम्मेलन में देश भर के करीब 80 से 100 प्रतिभागी हिस्सा ले रहे है।

Admission notice

पदमश्री अवार्ड से सम्मानित देश के प्रख्यात शिक्षाविद आरसी सोबती ने इस राष्ट्रीय सम्मेलन की सराहना करते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति में वह लचीलापन देखने को मिल रहा है, जो प्राचीन शिक्षा नीति में पहले से मौजूद थी। पद्मश्री सोबती ने कहा कि आज के समय में जिसे वोकेशनल विषय के तौर पर जाना जाता है, वह पहले कला के तौर पर जानी जाती थी। प्राचीन शिक्षा नीति में 67 कलाएं होती थी, जो हर व्यक्ति को करनी पड़ती थी और प्राचीन शिक्षा की इन्हीं 67 कलाओं को नई शिक्षा नीति में लाने का प्रयास किया गया है।

उन्होंने कहा कि ग्लोबल शिक्षा नीति बनाने का सही समय है। कोविड के चलते आज विश्व सूचना तंत्र से जुड़ा है। लिहाजा विश्व स्तर पर एक ही प्रकार की शिक्षा नीति बनाए जाने की जरूरत है। बता दें कि नाहन कॉलेज के 60 साल के समय में यह पहला मौका है, जब यहां किसी राष्ट्रीय स्तर के सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है।

2 दिनों तक चलने वाले इस राष्ट्रीय स्तर के सम्मेलन में देश भर से आए नामी शिक्षाविदों सहित अन्य प्रतिभागियों द्वारा नई शिक्षा नीति से संबंधित शोध कार्य व उसके क्रियान्वयन पर विचार विमर्श किया जाएगा। सम्मेलन में शिक्षा नीति पर कई प्रख्यात शिक्षाविद् भी अपने वक्तव्य प्रस्तुत करेंगे।

Written by

महिला की गुहार के बाद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी इन एक्शन

पीस मील कर्मियों की 5वें दिन भी हड़ताल जारी, HRTC की 28 कर्मशालों में कामकाज प्रभावित

पीस मील कर्मियों की 5वें दिन भी हड़ताल जारी, HRTC की 28 कर्मशालों में कामकाज प्रभावित