in

पास पड़ोस : कोरोना संकट के बीच देहरादून में ब्लैक फंगस की दस्तक…

राजधानी के एक निजी अस्पताल में आये 3 मामले 2 की पुष्टि…

Admission notice

कोरोना संक्रमण को हरा चुके कुछ लोग हो रहे ब्लैक फंगस का शिकार…

JPREC-June
JPREC-June

न्यूज घाट/देहरादून

कोविड संक्रमण काल मे उत्तराखंड में भी ब्लैक फंगस के दो पुष्ट व एक अपुष्ट मामला सामने आया है। राजधानी के एक निजी अस्पताल में ये मरीज एडमिट है, जिसका उपचार किया जा रहा है।

हालांकि अभी इस जानकारी पर सरकार या स्वास्थ्य विभाग का कोई आधिकारिक बयान नहीं मिल सका है।

Mehar Electrical
Mehar Electrical

लेकिन निजी अस्पताल के ही एक डॉक्टर के मुताबिक 2 मरीजों का इलाज किया जा रहा है। जबकि एक मरीज अभी अस्पताल की इमरजेंसी में है। इसकी रिपोर्ट अभी आना बाकी है।

ये भी पढ़ें : कोरोना संक्रमित मृतकों के अंतिम संस्कार को लेकर अब सीएम ने दिए ये निर्देश….

जब शव उठाने नहीं आया कोई, तो अंतिम संस्कार के लिए खुद विधायक पहुंचे…

हिमाचल में अब ये कर्मचारी वर्ग भी कोरोना फ्रंटलाइन वर्कर्स घोषित…

गौरतलब हो कि देश में कोरोना संक्रमण को हरा चुके कुछ लोग ब्लैक फंगस का शिकार हो रहे हैं। इस तरह के मामले भी अब दिल्ली समेत देश के कुछ राज्यों में सामने आ रहे हैं।

इसलिए लोगों को अपना खास ख्याल रखने की जरूरत है। वहीं, इसे लेकर पिछले दिनों केंद्र सरकार की ओर से एडवाइजरी भी जारी की गई, जिसमें बताया गया कि अनियंत्रित डायबिटीज और आईसीयू में ज्यादा समय बिताने वालो को यह हो सकता है, इसलिए सही समय पर इलाज जरूरी है।

ये भी पढ़ें : कोरोना महामारी के चलते अब सिरमौर के दवा विक्रेताओं ने लिया ये फैसला…..

 कोरोना संक्रमित मां का शव अकेले कंधों पर उठाकर पहुंचाया शमशान…

दरअसल, ब्लैक फंगस या म्यूकोरमाइकोसिस में मरीज की आंख की रोशनी जा सकती है। उनके जबड़े और नाक की हड्डी गल सकती है। यही नहीं अगर समय से इलाज नहीं मिला तो उसकी मौत भी हो सकती है।

ये भी पढ़ें : महिला को महंगी पड़ी ऑनलाइन चैटिंग, हुआ ऐसा की जान कर हो जाएंगे हैरान…

एक साल तक अपनी ही नाबालिग बेटी को हवस का शिकार बनाता रहा हैवान….

Written by newsghat

एक साल तक अपनी ही नाबालिग बेटी को हवस का शिकार बनाता रहा हैवान….

कैबिनेट बैठक में हो सकता है कोरोना कर्फ्यू को बढ़ाने पर फैसला…