in

पास पड़ोस : हर दिन पांच लोग हो रहे साइबर ठगी का शिकार…

3 हजार से अधिक लोग हुए साइबर ठगी का शिकार…

साइबर क्राइम में देश में 5वें नंबर पहुंचा ये शहर…

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के लोग आए दिन साइबर ठगी का शिकार हो रहे हैं। यहां प्रतिदिन तकरीबन पांच लोग अपने खून पसीने की कमाई साइबर ठगों के चंगुल में फंसा रहे हैं।

Admission notice

देश के जिन जिलों में सबसे ज्यादा लोग ठगी का शिकार हुए हैं, उनमें देहरादून का पांचवां नंबर है। यह आंकड़ा केंद्रीय गृह मंत्रालय के पोर्टल साइबर सेफ की रिपोर्ट से सामने आया है।

JPREC-June
JPREC-June

साइबर सेफ पोर्टल ने एक अगस्त 2019 से 31 मई 2021 तक के आंकड़े जारी किए हैं। आंकड़ों के अनुसार देहरादून जिले में इस बीच 3056 लोग साइबर ठगी का शिकार हुए।

Himachal Job Alert : हिमाचल लोक सेवा आयोग ने निकली बीडीओ की भर्ती

Sirmour : राज्य ग्रामीण इंजीनियरिंग प्रशिक्षण योजना के लिए जल्दी करें आवेदन…

Mehar Electrical
Mehar Electrical

ठगों ने इनसे कहीं ज्यादा लोगों को शिकार बनाने का प्रयास किया है। इस लिस्ट में पहला नंबर हैदराबाद का है, जहां 11 हजार से ज्यादा लोग ठगों के जाल में फंसे हैं।

इस रिपोर्ट के अनुसार यदि पूरे उत्तराखंड में ठगी गई रकम की बात करें तो 22 महीनों में यहां के लोगों ने 1.72 करोड़ रुपये ठगों को दिए हैं। इनमें से बहुत से बड़े मामले पकड़ में भी आए हैं।

क्या 21 जून के बाद 18+ आयु वर्ग को नहीं करना पड़ेगा ऑनलाइन स्लॉट बुक…

Sirmour में 18 जून को इन 25 स्थानों पर होगा 18+ का वैक्सिनेशन 

कई प्रकरणों में एसटीएफ और साइबर पुलिस ने कई ठगों को पकड़ा है। हालांकि इस साल कई बड़े मामलों में एसटीएफ ने करीब 50 लाख रुपये लोगों वापस भी कराए हैं।

साइबर अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई की बात करें तो उत्तराखंड पुलिस भी अव्वल राज्यों में शामिल है। यहां की पुलिस विशेष तौर पर एसटीएफ नंबरों और खातों की निगरानी करने में शीर्ष चार राज्यों में शामिल है।

75 मकानों पर चलेगा नेशनल हाईवे अथॉरिटी का डंडा…

Himachal Weather Alert : इन 6 जिलों में अलर्ट जारी, दरक सकते हैं पहाड़…

उत्तराखंड पुलिस साइबर ठगी के खिलाफ कार्रवाई और निगरानी में भी अव्वल राज्यों में शामिल है।

एसटीएफ एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि पुलिस ने संदिग्ध ठगों के 3500 से ज्यादा फोन नंबर और खाते नंबरों को निगेटिव सूची में डालते हुए पोर्टल पर अपलोड किया है। पोर्टल के माध्यम से इन नंबरों और खातों की निगरानी की जाती है।

Written by newsghat

क्या 21 जून के बाद 18+ आयु वर्ग को नहीं करना पड़ेगा ऑनलाइन स्लॉट बुक…

अवैध खनन की शिकायतों पर पहुंची एनजीटी की टीम…