in

सिरमौर के बेटे हर्षित चौहान ने किया भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बन किया कमरऊ का नाम रौशन…..

सिरमौर के बेटे हर्षित चौहान ने किया भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बन किया कमरऊ का नाम रौशन…..

 

हिमाचल प्रदेश के जिला सिरमौर कमरऊ तहसील के एक छोटे से गांव कांडो च्योग का युवा हर्षित चौहान भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बन कार हिमाचल प्रदेश का नहीं बल्कि पूरे सिरमौर का नाम रोशन किया है।

शनिवार को आईएमए देहरादून में आयोजित पासिंग आउट परेड (Passing Out Parade) के बाद हर्षित चौहान विधिवत रूप से भारतीय सेना का हिस्सा बना।1 जुलाई को हर्षित चौहान आर्मी की बॉम्बे इंजीनियर रेजीमेंट में अपनी सेवाएं देंगे।

2018 में एनडीए के लिए हुई थी सिलेक्शन…

Holi-2
Holi-2

सिलेक्ट  हर्षित चौहान ने बताया कि उनकी प्रारंभिक शिक्षा सेंट मैरी स्कूल कसौली से हुई है और उन्होंने दसवीं की परीक्षा भी वहीं से पास करने के बाद सोलन के बीएल सेंट्रल पब्लिक स्कूल से जमा दो की परीक्षा पास की।

जिसके साथ साथ ही उन्होंने उसी एनडीए (NDA) के लिए भी अप्लाई किया। पहले ही प्रयास में उनका चयन नेशनल डिफेंस अकादमी खड़कवासला महाराष्ट्र के लिए हुआ।

लेफ्टिनेंट हर्षित चौहान का कहना है कि उन्हें आर्मी में आने की प्रेरणा कसौली सेंट मैरी स्कूल से प्राप्त हुई।हर्षित का स्कूल आर्मी कैंटोनमेंट एरिया में था और आर्मी के लोग उन्हें अक्सर दिखते थे।और जब भी स्कूल का कोई कार्यक्रम होता था तो अक्सर आर्मी ऑफिसर जाते थे और उनके कंधों पर लगे सितारों को देखकर हर्षित हमेशा यह सोचते थे कि मैं भी एक आर्मी ऑफिसर बनूंगा।

हर्षित ने आर्मी जाने के लिए अपनी सारी सुख सुविधाओं और इच्छाओं को मार अपना एक गोल बनाया और आर्मी में जाने के लिए तैयारी करने लगे। जिसमें हर्षित का कहना है कि युवा अपने लक्ष्य को यदि सामने रखकर प्रयास करेंगे तो सफलता उनका आवश्य वरण करेगी।

बात यदि हर्षित चौहान के माता-पिता की करें तो उसे भी अपने जीवन में अनुशासन प्रिय और व्यस्त जीवनशैली के लोग हैं। हर्षित के पिता ध्यान सिंह चौहान क्लस्टर यूनिवर्सिटी मंडी में कंट्रोलर के पद पर कार्यरत हैं। माता शांता चौहान शिमला के बालूगंज स्थित  हिमाचल हॉस्पिटल ऑफ मेंटस हेल्थ एंड रिहैबिलिटेशन में सीनियर नर्सिंग ऑफिसर के पद पर तैनात हैं।

उन्होंने कहा कि उनका बेटा देश की सेवा के लिए चुना गया है किस बात की उन्हें खुशी नहीं है बल्कि गर्व है कि उनके बेटे को देश की सेवा करने का मौका प्राप्त हुआ है। हर्षित की छोटी बहन मानसी चौहान हमीरपुर मेडिकल कॉलेज में पढ़ती है जिसने अपने भाई की उपलब्धि और तरक्की पर बहुत खुशी प्रकट की है।

Written by Newsghat Desk

Super bike : इस कंपनी ने पेश की जबरदस्त फोल्डिंग इलेक्ट्रिक साइकिल, जाने क्या है कीमत और फीचर्स….

Alert : कहीं आप भूल से Google पर न सर्च कर रहे यह चीजें, हो जाएं सावधान वरना खानी पड़ सकती है जेल की हवा….