in , ,

हादसा : क्या हुआ जब चलती बस में ड्राइवर को पड़ा दिल का दौरा, मौत

हादसा : क्या हुआ जब चलती बस में ड्राइवर को पड़ा दिल का दौरा, मौत

चलती बस सड़क से उतरी, सवारियों की जान पर आफत….

पांवटा साहिब-शिलाई मार्ग पर हुआ ये हादसा, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

न्यूज़ घाट/पांवटा साहिब

Plot for sale
Plot for sale

पांवटा साहिब-शिलाई मार्ग पर चलती बस में ड्राइवर को दिल का दौरा पड़ गया। जिसके बाद बस में सवार दर्जनों सवारियों की जान आफत में पड़ गई।

Kidzee 02
Kidzee 02

हालांकि बस सड़क से बाहर निकल कर झाड़ियों मे घुस गई व बड़ा हादसा होने से टल गया। सभी सवारियां महफूज हैं, जबकि ड्राइवर ने अस्पताल में दम तोड़ दिया हैं।

जानकारी अनुसार कपूर बस सर्विस (HP 71- 8001 ) के ड्राइवर को चलती बस में अचानक सीने में दर्द उठा और चालक बेहोश हो गया।

Republic Day 01
Republic Day 01

लेकिन इस बीच चालक ने बस को झाड़ियों की तरफ मोड दिया और बस सड़क के किनारे टेलीफोन के पोल को चीरती हुई झाड़ियों में घुस कर रुक गई।

ये भी पढ़ें : सिरमौर सहित प्रदेश के कई जिलों में लग सकता है नाइट कर्फ्यू….

Salute : जब जंगल की आग बुझाने कंधे से कंधा मिलाकर जुट गई महिलाएं…..

इस दौरान बस में दर्जनों सवारियां भी मौजूद थी। लेकिन गनीमत यह रही कि यात्रियों को चोटें नहीं आई, बस झाड़ियों में खड़ी हो गई और बड़ी घटना होने से टल गई।

लोगों ने ड्राइवर को सिविल अस्पताल पहुंचाया जहां उसकी मौत हो गई। स्थानीय प्रधान सुनील ने जानकारी देते हुए बताया कि चालक के सीने में दर्द उठा और बस अनियंत्रित होकर झाड़ियों में घुस गई।

ये भी पढ़ें : क्या हुआ जब मेले से लौटे युवक ने लगाया फंदा…..

सावधान : पुलिस टीम ने बिगड़ैल वाहन चालकों पर कसा शिकंजा…

चालक को बेहोशी की हालत में सिविल अस्पताल पांवटा पहुंचाया गया है। लेकिन इस बीच चालक की मौत हो गई है।

पांवटा साहिब सिविल अस्पताल डॉक्टर अंकुर ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि एक बस चालक को अस्पताल लाया गया था। लेकिन वह पहले से ही मृत हो चुके थे।

उन्होंने बताया कि दिल का दौरा पड़ने से ही व्यक्ति की मौत हुई है, चालक का नाम अशोक थापा (47) वर्ष, निवासी गांव चांदनी हैं।

ये भी पढ़ें : अलर्ट : अगर ऐसा नहीं किया, तो प्रमोट नहीं होंगे 9वीं और 10वीं के विद्यार्थी….

अब 15 अप्रैल तक उठा सकेंगे प्रदेश सरकार की इस योजना का लाभ…..

Written by newsghat

Salute : जब जंगल की आग बुझाने कंधे से कंधा मिलाकर जुट गई महिलाएं…..

अब मास्टर जी नहीं कर सकेंगे काम को आनाकानी….