Paonta Cong
in

हिमाचल में आई बरसाती आपदा में ध्वस्त हुई ईमारतों का निर्माण नहीं होगा आसान: भवन निर्माण सामग्री की कीमतों में भारी इजाफा! पढ़ें क्या है कारण

हिमाचल में आई बरसाती आपदा में ध्वस्त हुई ईमारतों का निर्माण नहीं होगा आसान: भवन निर्माण सामग्री की कीमतों में भारी इजाफा! पढ़ें क्या है कारण

हिमाचल में आई बरसाती आपदा में ध्वस्त हुई ईमारतों का निर्माण नहीं होगा आसान: भवन निर्माण सामग्री की कीमतों में भारी इजाफा! पढ़ें क्या है कारण
हिमाचल में आई बरसाती आपदा में ध्वस्त हुई ईमारतों का निर्माण नहीं होगा आसान: भवन निर्माण सामग्री की कीमतों में भारी इजाफा! पढ़ें क्या है कारण

हिमाचल में आई बरसाती आपदा में ध्वस्त हुई ईमारतों का निर्माण नहीं होगा आसान: भवन निर्माण सामग्री की कीमतों में भारी इजाफा! पढ़ें क्या है कारण

JPERC
JPERC

हिमाचल में आई बरसाती आपदा में ध्वस्त हुई ईमारतों का निर्माण नहीं होगा आसान: हिमाचल प्रदेश में प्राकृतिक आपदा के दौरान निवासियों को एक और समस्या सामने आई है।

हिमाचल में आई बरसाती आपदा में ध्वस्त हुई ईमारतों का निर्माण नहीं होगा आसान: भवन निर्माण सामग्री की कीमतों में भारी इजाफा! पढ़ें क्या है कारण

Admission notice

हिमाचल में आई बरसाती आपदा में ध्वस्त हुई ईमारतों का निर्माण नहीं होगा आसान: भवन निर्माण सामग्री के दाम बढ़ने के कारण, नए घर बनाने का खर्च बढ़ गया है। डीजल पर तीन रुपये की वैट बढ़ाने से भी निर्माण सामग्री की कीमतें ऊपर चढ़ गईं हैं।

हाल ही में हुई बाढ़ के कारण नष्ट हुए घरों, होटलों, और दुकानों को पुनर्निर्माण करने का खर्च अब अधिक हो गया है। खासकर, जिला कुल्लू ने बाढ़ के कारण गहरे नुकसान का सामना किया है।

सड़कों, बिजली, और पेयजल योजनाओं को भी बहुत नुकसान पहुंचा है। सैकड़ों मकान और दुकानें नष्ट हो गई हैं और उन्हें फिर से बनाने के लिए लोगों को ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे।

देश दुनिया और वित्तीय जगत के ताजा समाचार जानने के लिए न्यूज़ घाट व्हाट्सएप समूह से जुड़े। नीचे दिए लिंक पर अभी क्लिक करें

भवन निर्माण सामग्री की कीमतों में वृद्धि के कारण, होटल, घर, और दुकानें बनाने में अधिक बजट की आवश्यकता होगी। बजरी, रेत, और ईंटों की कीमतें भी बढ़ गई हैं।

टिपर और ट्रक मालिक शुभम चौहान ने बताया कि कुछ महीने पहले बजरी का टिपर 6,000 रुपये का था, जो अब 6,500 से 7,000 रुपये तक हो गया है।

रेत की कीमत में भी 1,000 रुपये टिपर की वृद्धि हुई है। सड़कों की बुरी स्थिति के कारण सप्लाई में भी परेशानियां आ रही हैं। सामग्री समय पर उपलब्ध नहीं हो रही है।

सरिया के व्यापारी मनोज ने कहा कि ट्रक की आवाजाही समय पर नहीं हो रही है और डीजल की बढ़ती कीमतों के कारण सरिया और ईंटों के रेट बढ़ गए हैं। कुल्लू में, छह महीने पहले, एक ईंट 9.50 रुपये का था, जो अब 10 रुपये हो गया है।

देश दुनिया और वित्तीय जगत के ताजा समाचार जानने के लिए न्यूज़ घाट व्हाट्सएप समूह से जुड़े। नीचे दिए लिंक पर अभी क्लिक करें

Written by newsghat

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल: हिमाचल में कचरा निष्पादन को लेकर NGT सख्त! कारवाई के बारे में मांगी रिपोर्ट

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल: हिमाचल में कचरा निष्पादन को लेकर NGT सख्त! कारवाई के बारे में मांगी रिपोर्ट

Easy Loan for Women: महिलाओं के लिए नई पहल! सहकारी बैंक देगा कम ब्याज दर पर बिना गारंटी लोन! पढ़ें आपको कैसे मिलेगा इसका लाभ

Easy Loan for Women: महिलाओं के लिए नई पहल! सहकारी बैंक देगा कम ब्याज दर पर बिना गारंटी लोन! पढ़ें आपको कैसे मिलेगा इसका लाभ