Paonta Cong
in , ,

Cancer Treatment: हिमाचल में कैंसर के ईलाज में नया कीर्तिमान! कीमोथैरेपी का दुष्प्रभाव ऐसे होगा कम! तीन साल के अनुसंधान के बाद मिली बड़ी सफलता

Cancer Treatment: हिमाचल में कैंसर के ईलाज में नया कीर्तिमान! कीमोथैरेपी का दुष्प्रभाव ऐसे होगा कम! तीन साल के अनुसंधान के बाद मिली बड़ी सफलता

Cancer Treatment: हिमाचल में कैंसर के ईलाज में नया कीर्तिमान! कीमोथैरेपी का दुष्प्रभाव ऐसे होगा कम! तीन साल के अनुसंधान के बाद मिली बड़ी सफलता
Cancer Treatment: हिमाचल में कैंसर के ईलाज में नया कीर्तिमान! कीमोथैरेपी का दुष्प्रभाव ऐसे होगा कम! तीन साल के अनुसंधान के बाद मिली बड़ी सफलता

Cancer Treatment: हिमाचल में कैंसर के ईलाज में नया कीर्तिमान! कीमोथैरेपी का दुष्प्रभाव ऐसे होगा कम! तीन साल के अनुसंधान के बाद मिली बड़ी सफलता

JPERC
JPERC

Cancer Treatment: टर्की टेल मशरूम में एंटीबैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। इसका सेवन करने से कीमोथेरपी के कारण कैंसर के मरीजों की कमजोरी दूर होगी और वे तेजी से स्वस्थ होंगे।

Admission notice

खुंब अनुसंधान निदेशालय, सोलन ने अब मशरूम की एक और नई प्रजाति, टर्की टेल को उगाने में सफलता पाई है।

Cancer Treatment: हिमाचल में कैंसर के ईलाज में नया कीर्तिमान! कीमोथैरेपी का दुष्प्रभाव ऐसे होगा कम! तीन साल के अनुसंधान के बाद मिली बड़ी सफलता

यह मशरूम सामान्यतया जंगलों में उगती है, लेकिन अब इसे घरों में भी उगाया जा सकता है। इसकी किस्म औषधीय गुणों से भरी हुई है।

कैंसर के मरीज अगर इसका सेवन करते हैं, तो वे अन्य मरीजों की तुलना में जल्दी स्वस्थ होंगे। पहले यह मशरूम सिर्फ चीन और जापान में उगाई जाती थी।

देश दुनिया और वित्तीय जगत के ताजा समाचार जानने के लिए न्यूज़ घाट व्हाट्सएप समूह से जुड़े। नीचे दिए लिंक पर अभी क्लिक करें

इस मशरूम को उगाने के लिए 20 से 22 डिग्री तापमान की आवश्यकता होती है। निदेशालय ने इसको उगाने की तकनीक किसानों को उपलब्ध करवाई है और जल्द ही यह बाजार में उपलब्ध होगी। अब तक के अनुसंधान में इसके उगाने के सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं।

शोध में यह पाया गया है कि यह मशरूम स्तन, फेफड़े, प्रोस्टेट और कोलोरेक्टल कैंसर से निपटने में सहायक हो सकती है। इसके सेवन से कीमोथेरपी के दौरान होने वाली कमजोरी को दूर किया जा सकता है।

इसमें पाए जाने वाले प्रोबायोटिक्स पाचन क्रिया को मजबूत करेंगे। यह HIV/AIDS के मरीजों के लिए भी उपयोगी हो सकती है।

खुंब निदेशालय सोलन के निदेशक डॉ. वीपी शर्मा ने बताया कि निदेशालय ने टर्की टेल मशरूम को उगाने में सफलता प्राप्त की है। इसे किसानों को उगाने की तकनीक जल्द ही बताई जाएगी।

देश दुनिया और वित्तीय जगत के ताजा समाचार जानने के लिए न्यूज़ घाट व्हाट्सएप समूह से जुड़े। नीचे दिए लिंक पर अभी क्लिक करें

Written by newsghat

HP Jal Shakti Vibhag: आईपीएच विभाग के क्लर्क का कारनामा! भेद खुलते ही विजिलेंस और एंटी करप्शन ब्यूरो ने धरा! पढ़ें क्या है पूरा मामला

HP Jal Shakti Vibhag: आईपीएच विभाग के क्लर्क का कारनामा! भेद खुलते ही विजिलेंस और एंटी करप्शन ब्यूरो ने धरा! पढ़ें क्या है पूरा मामला

हिमाचल प्रदेश की ये यूनिवर्सिटी पहली बार करवा रही वाइन निर्माण का पेशेवर कोर्स! इस क्षेत्र में बनाना चाहते हैं करियर जल्दी करें सीमित हैं सीटे! यहां जानिए कैसे करें आवेदन

हिमाचल प्रदेश की ये यूनिवर्सिटी पहली बार करवा रही वाइन निर्माण का पेशेवर कोर्स! इस क्षेत्र में बनाना चाहते हैं करियर जल्दी करें सीमित हैं सीटे! यहां जानिए कैसे करें आवेदन