Paonta Cong
in

Google Play ने भारत में शुरु की अपनी ये खास सेवा, जानें कैसे होगा फायदेमंद साबित होगी UPI ऑटोपे पेमेंट की सेवा

Google Play ने भारत में शुरु की अपनी ये खास सेवा, जानें कैसे होगा फायदेमंद साबित होगी UPI ऑटोपे पेमेंट की सेवा

JPERC
JPERC

 

Admission notice

हाल ही में Google Play ने भारत में सब्सक्रिप्शन-आधारित खरीदारी के लिए UPI Autopay पेश किया गया है, और आपको बता दे कि UPI को शुरू में 2019 में भुगतान विकल्प के रूप में प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कराया गया था। और अब Google का दावा है कि यह 60 से अधिक देशों में 300 से अधिक लोकल भुगतान विधियों का सपोर्ट करता है।

नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने इस साल की शुरुआत में जुलाई में आवर्ती भुगतानों के लिए UPI AutoPay सुविधा शुरू कर दिया है, तथा यह ग्राहकों को फोन बिल, EMI भुगतान, बीमा, बिजली बिल, मनोरंजन/ओटीटी सब्सक्रिप्शन आदि जैसे चक्रीय खर्चों के लिए ई-मैंडेट सेट करने में सरल और सक्षम बनाता है।

सब्सक्रिप्शन-आधारित खरीदारी के लिए UPI ऑटोपे सुविधा

हाल ही में Google ने घोषणा की कि उसके [Google Play] ग्राहक अब भारत में अपनी सब्सक्रिप्शन-आधारित खरीदारी के लिए UPI ऑटोपे सुविधा का उपयोग कर सकते हैं। तथा कस्टमर्स द्वारा सब्सक्रिप्शन प्लान का चयन करने के बाद स्टोर अब “UPI के साथ भुगतान” विकल्प प्रदान करता है।

इसके बाद उन्हें अपने समर्थित यूपीआई ऐप में खरीदारी को मंजूरी प्रदान करती है, और इस कदम से लोकल डेवलपर्स को अपनी सब्सक्रिप्शन प्लान्स के विस्तार में सहायता मिलने की उम्मीद मिल रही है।

आपको बता दे कि UPI Autopay को भारत में NPCI ने जुलाई में लॉन्च किया था। तथा यह उपयोगकर्ताओं को योग्य ऐप्स के माध्यम से आवर्ती खरीद के लिए ई-मैंडेट सेट करने की अनुमति प्रदान करता है।

इसके साथ ही एक बार, दैनिक, साप्ताहिक, पाक्षिक, मासिक, द्वि-मासिक, त्रैमासिक, अर्ध-वार्षिक तथा वार्षिक शासनादेश उपयोगकर्ताओं द्वारा आसानी से स्थापित किए जा सकता हैं।

ऑटो-डेबिट लेनदेन के लिए नई प्रक्रिया :

अब Google Play पर UPI ऑटोपे की शुरुआत भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) के नए ऑटो-डेबिट नियमों के लगभग एक महीने बाद हुआ है, जो 1 अक्टूबर को लागू किया गया था, और इस बदलाव ने भारत में लाखों कस्टमर्स को आवर्ती ऑनलाइन लेनदेन के साथ प्रभावित किया है। और नेटफ्लिक्स या यूट्यूब के सब्सक्रिप्शन भुगतान जैसे सभी ऑटो-डेबिट लेनदेन अब एक नई प्रक्रिया से गुजरते हैं।

आपको बता दे कि यहां तक कि क्रेडिट तथा डेबिट कार्ड के साथ-साथ प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट्स (PPI) के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय आवर्ती लेनदेन भी प्रभावित हुआ है, RBI ने वर्ष 2019 में कहा था कि इन उपायों का एक मात्र उद्देश्य धोखाधड़ी को रोकना है।

वह ग्राहकों को अपने अंत से आवर्ती भुगतान रोकने तथा ऐसे लेनदेन के बारे में सूचित रहने की अनुमति भी प्रदान करता है, और नेटफ्लिक्स इंडिया ने इन परिवर्तनों की प्रत्याशा में इस साल अगस्त में UPI ऑटोपे पहले ही इसके लिए समर्थन सक्षम कर दिया था।

Written by Newsghat Desk

Credit Score After Loan Settlement: अगर लोन सेटेलमेंट से खराब हो गया है क्रेडिट स्‍कोर तो ऐसे करें ठीक

Credit Card बनवाना चाहते हैं तो पहले तैयार करें ये डॉक्यूमेंट्स, इन बातों का भी रखना होगा ध्यान