in

HPSEB Employee News: हिमाचल में बिजली बोर्ड के 6500 कर्मचारियों को जोर का झटका! सीएम की मनाही के बाद भी काट लिया एनपीएस शेयर, कर्मचारी भड़के

HPSEB Employee News: हिमाचल में बिजली बोर्ड के 6500 कर्मचारियों को जोर का झटका! सीएम की मनाही के बाद भी काट लिया एनपीएस शेयर, कर्मचारी भड़के

HPSEB Employee News: हिमाचल में बिजली बोर्ड के 6500 कर्मचारियों को जोर का झटका! सीएम की मनाही के बाद भी काट लिया एनपीएस शेयर, कर्मचारी भड़के
HPSEB Employee News: हिमाचल में बिजली बोर्ड के 6500 कर्मचारियों को जोर का झटका! सीएम की मनाही के बाद भी काट लिया एनपीएस शेयर, कर्मचारी भड़के

HPSEB Employee News: हिमाचल में बिजली बोर्ड के 6500 कर्मचारियों को जोर का झटका! सीएम की मनाही के बाद भी काट लिया एनपीएस शेयर, कर्मचारी भड़के

 

Admission notice

HPSEB Employee News: मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू की मनाही के बावजूद हिमाचल प्रदेश बिजली बोर्ड के कर्मचारियों के वेतन से एनपीएस (नई पेंशन योजना) शेयर कटा गया है।

JPREC-June
JPREC-June

पुरानी पेंशन योजना की वापसी का इंतजार करने वाले 6,500 कर्मचारी अब भी असहजता महसूस कर रहे हैं। यूनियनों की संयुक्त बैठक इस मामले की विचारविमर्श करने के लिए आयोजित की जा रही है।

HPSEB Employee News: हिमाचल में बिजली बोर्ड के 6500 कर्मचारियों को जोर का झटका! सीएम की मनाही के बाद भी काट लिया एनपीएस शेयर, कर्मचारी भड़के

मुख्यमंत्री ने कर्मचारी यूनियन के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान एनपीएस शेयर का कटौती नहीं होगी, ऐसा आश्वासन दिया था। फिर भी, वेतन से एनपीएस का हिस्सा काट लिया गया है। इसके कारण कर्मचारियों में आक्रोश फैल गया है।

कर्मचारियों की मांग यह रही है कि जब तक पुरानी पेंशन योजना को फिर से लागू नहीं किया जाता, तब तक उनके वेतन से एनपीएस का हिस्सा नहीं काटा जाना चाहिए।

Mehar Electrical
Mehar Electrical

देश दुनिया और वित्तीय जगत के ताजा समाचार जानने के लिए न्यूज़ घाट व्हाट्सएप समूह से जुड़े। नीचे दिए लिंक पर अभी क्लिक करें

दूसरी ओर, बोर्ड प्रबंधन ने अब तक पेंशन योजना को बहाल करने के लिए कोई महत्वपूर्ण कदम नहीं उठाया है, जिससे कर्मचारियों में सरकार के प्रति आक्रोश बढ़ रहा है।

कर्मचारी यूनियन के अध्यक्ष कामेश्वर दत्त ने कहा है कि यह पहली बार हो रहा है कि कर्मचारियों को मुख्यमंत्री के आदेशों का पालन करवाने के लिए आंदोलन करना पड़ रहा है।

उन्होंने बोर्ड प्रबंधन की अशोभनीय कार्यशैली को दोषी ठहराते हुए कहा कि इससे सरकार की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंच रहा है।

अब, सभी कर्मचारी यूनियनों की संयुक्त बैठक इस मामले पर आगामी कार्यक्रम का निर्णय करने के लिए तीन जुलाई को होगी।

देश दुनिया और वित्तीय जगत के ताजा समाचार जानने के लिए न्यूज़ घाट व्हाट्सएप समूह से जुड़े। नीचे दिए लिंक पर अभी क्लिक करें

Written by newsghat

Himachal Latest News: सड़क किनारे खड़ी कार पर पलटी अनियंत्रित पिकअप, 1 की मौत, 5 घायल

अब बिजली बिल से छुटकारा पाएं: बिना बिजली के चलेगा आपका एसी! जानें कैसे करें सौर ऊर्जा का उपयोग

अब बिजली बिल से छुटकारा पाएं: बिना बिजली के चलेगा आपका एसी! जानें कैसे करें सौर ऊर्जा का उपयोग