in , ,

IIT Mandi: IIT मंडी के युवा इंजीनियरों ने तैयार किया अदभुत और सस्ता बेबी इनक्यूबेटर! नवजात शिशुओं को देगा जीवनदान

IIT Mandi: IIT मंडी के युवा इंजीनियरों ने तैयार किया अदभुत और सस्ता बेबी इनक्यूबेटर! नवजात शिशुओं को देगा जीवनदान

IIT Mandi: IIT मंडी के युवा इंजीनियरों ने तैयार किया अदभुत और सस्ता बेबी इनक्यूबेटर! नवजात शिशुओं को देगा जीवनदान

 

Admission notice

IIT Mandi: हिमाचल प्रदेश के आईआईटी मंडी के युवा इंजीनियरों ने कम लागत में नवजात शिशुओं के लिए इनक्यूबेटर विकसित किया है।

JPREC-June
JPREC-June

IIT Mandi: IIT मंडी के युवा इंजीनियरों ने तैयार किया अदभुत और सस्ता बेबी इनक्यूबेटर! नवजात शिशुओं को देगा जीवनदान

यह इनक्यूबेटर, गर्भ में ही जन्म लेने वाले बच्चों को मातृगर्भ जैसा माहौल प्रदान करेगा और उन्हें जीवनघातक बीमारियों से बचाएगा। इसे यूनिट को अप्प से नियंत्रित किया जा सकता है और इसकी कीमत मात्र 30,000 रुपये है।

अब इसे और अधिक उन्नत बनाने के लिए काम किया जा रहा है, जिसकी लागत करीब एक लाख रुपये होगी।

Mehar Electrical
Mehar Electrical

इसका निर्माण करने वाले छात्र हैं, बीटेक सेकेंड ईयर के केशव, हरि रमानी और मोहित कुमार।
उनके मार्गदर्शक थे सहायक प्रोफेसर डॉ. गजेंद्र सिंह।

इन छात्र इंजीनियरों ने अपना मॉडल S20G 20 में प्रदर्शित किया और राज्यपाल को भी दिखाया। राज्यपाल ने इनके प्रयासों की सराहना की और उन्हें बधाई दी।

यह नेऑनटॉल इनक्यूबेटर उत्कृष्ट आवश्यकता है, खासकर हिमाचल प्रदेश जैसे स्थानों में, जहां औसतन तापमान 18.4 डिग्री सेल्सियस रहता है और कुछ जिलों, जैसे कि केलांग, में यह माइनस 8.2 डिग्री तक भी गिर जाता है।

देश दुनिया और वित्तीय जगत के ताजा समाचार जानने के लिए न्यूज़ घाट व्हाट्सएप समूह से जुड़े। नीचे दिए लिंक पर अभी क्लिक करें

यह मशीन बच्चों के लिए आवश्यक तापमान को बनाए रखने में सक्षम है। इसकी सबसे अद्वितीय विशेषता यह है कि इसे स्थानांतरण के समय स्ट्रेचर पर भी स्थापित किया जा सकता है।

इसका उपयोग शिशु के लिए एंबुलेंस सुविधाओं में किया जा सकता है। यह आर्द्रता को 55 और 60 डिग्री के बीच बनाए रखता है। इसे रिमोट के माध्यम से दुनियाभर में कहीं से भी नियंत्रित किया जा सकता है।

इनक्यूबेटर को खोले बिना ही बच्चे के पास पहुंचने और उसकी देखभाल करने की व्यवस्था की गई है, जिससे संक्रमण के खतरे को कम किया जा सकता है। इसके अलावा, इसे बिजली की कमी के समय भी सोलर ऊर्जा से चलाया जा सकता है।

इस प्रकार, इसकी क्षमता और प्रभावीता ने यह साबित किया है कि यह सुविधा ग्रामीण और दूरस्थ क्षेत्रों में नवजात बच्चों की देखभाल में क्रांतिकारी साबित हो सकती है।

देश दुनिया और वित्तीय जगत के ताजा समाचार जानने के लिए न्यूज़ घाट व्हाट्सएप समूह से जुड़े। नीचे दिए लिंक पर अभी क्लिक करें

Written by Newsghat Desk

Sirmour News: बाजार में दुकानदार ने उठाया ये खौफनाक कदम! अब जांच में जुटी पुलिस

Himachal Pradesh News: हिमाचल में पत्नी ने रोटी के पलटे से पीट पीट कर की पति हत्या! जानें क्या है पूरा मामला