Paonta Cong
in , , , , , , ,

Insurance Premium Hike: जल्द हो सकती है आपके इंश्योरेंस प्रीमियम में बढ़ौतरी! क्या है कारण देखें पूरी डिटेल

Insurance Premium Hike: जल्द हो सकती है आपके इंश्योरेंस प्रीमियम में बढ़ौतरी! क्या है कारण देखें पूरी डिटेल

Insurance Premium Hike: जल्द हो सकती है आपके इंश्योरेंस प्रीमियम में बढ़ौतरी! क्या है कारण देखें पूरी डिटेल

JPERC
JPERC

Insurance Premium Hike: भारत में बीमा क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन हो सकता है, जिससे आपके इंश्योरेंस प्रीमियम में वृद्धि हो सकती है।

Admission notice

भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) जल्द ही जनरल इंश्योरेंस कंपनियों को मोटर (थर्ड-पार्टी), आग और दुर्घटना बीमा के लिए उनके प्रीमियम खुद तय करने की अनुमति दे सकता है।

Insurance Premium Hike: जल्द हो सकती है आपके इंश्योरेंस प्रीमियम में बढ़ौतरी! क्या है कारण देखें पूरी डिटेल

IRDAI ने इस दिशा में कार्य करने के लिए एक टास्क फोर्स का गठन किया है। यह टास्क फोर्स यह निर्णय लेगी कि बीमा कंपनियां अपने प्लान्स के प्रीमियम को कैसे बढ़ा या घटा सकती हैं। यह कदम मौजूदा टैरिफ को डी-नोटिफाई करने के बाद उठाया जा रहा है।

दिन भर की ताजा खबरों के अपडेट के लिए WhatsApp प NewsGhat Media के इस लिंक को क्लिक कर चैनल को फ़ॉलो करें।

टास्क फोर्स की अध्यक्षता बीमा सलाहकार समिति के सदस्य राजेंद्र बेरी करेंगे। इसमें न्यू इंडिया एश्योरेंस, HDFC ERGO, बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस, जियो डिजिट जनरल इंश्योरेंस, रॉयल सुंदरम जनरल इंश्योरेंस और जनरल इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया जैसी प्रमुख कंपनियां शामिल हैं। इस टास्क फोर्स को 24 नवंबर तक अपनी सिफारिशें सौंपनी हैं।

टास्क फोर्स की जिम्मेदारियों में विवेकपूर्ण दिशानिर्देश तैयार करना, डी-टैरिफिकेशन के बाद एक प्रिंसिपल बेस्ड फ्रेमवर्क तैयार करना और गैर-अधिसूचित बीमा श्रेणियों के लिए दिशानिर्देशों का एक ड्राफ्ट तैयार करना शामिल है।

इसका मतलब यह है कि जब तक ये दिशानिर्देश लागू नहीं हो जाते, तब तक बीमा कंपनियां अपनी मर्जी से प्रीमियम दरें तय कर सकेंगी।

इसके अलावा, यह टास्क फोर्स मोटर थर्ड पार्टी, आग और दुर्घटना बीमा जैसे बड़े व्यावसायिक खंडों पर विशेष ध्यान देगी। यह कदम इंश्योरेंस उद्योग में प्रतिस्पर्धा बढ़ाने और ग्राहकों को अधिक विकल्प प्रदान करने के उद्देश्य से उठाया जा रहा है।

इससे बीमा कंपनियों के बीच दरों की प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और उन्हें अपने उत्पादों और सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए इनोवेटिव तरीके अपनाने पड़ सकते हैं। इसका सीधा असर ग्राहकों पर पड़ेगा, जिन्हें अधिक प्रतिस्पर्धी दरों और बेहतर सेवाओं का लाभ मिल सकेगा।

दिन भर की ताजा खबरों के अपडेट के लिए WhatsApp प NewsGhat Media के इस लिंक को क्लिक कर चैनल को फ़ॉलो करें।

Written by Newsghat Desk

PM Kisan Samman Nidhi: पीएम किसान की 15वीं किस्त को लेकर आया नया अपडेट! 15वीं किस्त के लिए जल्दी से कर लें ये 4 काम वरना हो जाएंगे परेशान! यहां देखें पूरी डिटेल

Instant Easy Loan: अचानक पड़ गई है पैसों की जरूरत! क्रेडिट कार्ड बनाम पर्सनल लोन कौन सा लोन बेहतर देखें पूरी डिटेल