in , , , ,

Parenting Tips: ऑनलाइन गेमिंग की लत बिगड़ सकती है आपके बच्चे का मानसिक संतुलन! पेरेंट्स इन पांच ट्रिक से बचाएं अपने बच्चे का स्वास्थ्य….

Parenting Tips: ऑनलाइन गेमिंग की लत बिगड़ सकती है आपके बच्चे का मानसिक संतुलन! पेरेंट्स इन पांच ट्रिक से बचाएं अपने बच्चे का स्वास्थ्य….

Parenting Tips: ऑनलाइन गेमिंग की लत बिगड़ सकती है आपके बच्चे का मानसिक संतुलन! पेरेंट्स इन पांच ट्रिक से बचाएं अपने बच्चे का स्वास्थ्य….

 

Parenting Tips: मोबाइल फोन आज के समय में एक ऐसी बीमारी बनकर सामने आया है। जिससे बड़े तो बड़े बच्चे भी इसे गंभीर रूप से ग्रसित है इस बीमारी की चपेट में आए किसी भी व्यक्ति बच्चे से इसकी लत छुड़ाना बहुत मुश्किल हो गया है।

Parenting Tips: ऑनलाइन गेमिंग की लत बिगड़ सकती है आपके बच्चे का मानसिक संतुलन! पेरेंट्स इन पांच ट्रिक से बचाएं अपने बच्चे का स्वास्थ्य….

ऑनलाइन गेमिंग की लत ने उनका पढ़ने खाने सोने और उठने का पूरा शेड्यूल खराब करके रख दिया है इसके समाधान के लिए कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए जैसे:

•ऑनलाइन गेमिंग बच्चों के लिए एडिक्शन बंद कर रह गया है।

Plot for sale
Plot for sale

•ऑनलाइन गेमिंग की लत पेरेंट्स के लिए बना सरदर्द।

Kidzee 02
Kidzee 02

• पेरेंट्स 5 ट्रिक्स आपनाकर कर सकते हैं परिस्थिति को कंट्रोल।

Good perenting Tips: किसी भी चीज का इस्तेमाल एक लिमिट तक हो तभी तक वह सही होता है अनलिमिटेड इस्तेमाल करना हमेशा नुकसानदायक ही रहा है।

Republic Day 01
Republic Day 01

ठीक इसी तरह बच्चों में ऑनलाइन गेमिंग की बढ़ती आदत आपके बच्चे की फिजिकल ओर मेंटल हेल्थ पर बुरा प्रभाव डालती है।

और अक्सर यह पेरेंट्स के लिए एक बड़ी सिर दर्द बनकर सामने आती है। हर एक माता-पिता अपने बच्चों को प्यार करते हैं यह अलग बात है और प्यार में अपने बच्चों को इस कदर बिगाड़ देते हैं कि उनकी हर इच्छा को पूरा करने लगते हैं।

स्मार्टफोन का क्रेज इस कदर बच्चों के सिर पर चढ़ जाता है कि उनकी पढ़ाई लिखाई और उनकी ग्रोइंग आगे में बच्चा अपना ज्यादातर समय फोन में बिताने लगता है।

ऐसे में यदि आप अपने बच्चों की हालत छुड़वाने की लाख कोशिश करें लेकिन आप हर बार नाकामयाब ही रहेंगे।

आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको आपके बच्चे की फोन एडिक्शन की लत को छुड़वाने के लिए कुछ ऐसे आसान टिप्स बताएंगे जिससे आपके बच्चे की ऑनलाइन गेमिंग की हालत पूर्णता छूट जाएगी।

जानिए कैसे…

बातचीत करें

पेरेंट्स अक्सर अपने बच्चों को गेमिंग के समय डांटे और गुस्सा दिखाते हैं जिससे वह और जिद्दी बन जाते हैं इतना ही नहीं कई बार तो गए पेरेंट्स से छुपा कर खेलना शुरू कर देते या उनके विरोध पर आ जाते हैं।

आपका बच्चा भी ऐसे रिएक्ट कर रहा है तो ऐसे में उसे डांटने की बजाय उसे बैठकर बात करें। उसके साथ खुले मिले और उनसे यह पूछने की कोशिश करें कि वह यह गेम्स क्यों खेलते हैं?

उन्हें यह क्यों अच्छा लगता है यदि आप अपने बच्चों के साथ दोस्त जैसी कनेक्टिविटी बनाएंगे तो ऐसे में आपका बच्चा आपसे अपने मन की बात कहेगा।

शेड्यूल पर गौर करें

पेरेंट्स को अपने बच्चों की शेड्यूल के बारे में पूरी जानकारी होना बहुत जरूरी है आपका बच्चा आपके रूम में क्या कर रहा है क्या नहीं?

दिन भर की ताजा खबरों के अपडेट के लिए WhatsApp प NewsGha Media के इस लिंक को क्लिक कर चैनल को फ़ॉलो करें।

यह आपको पता होना चाहिए पेरेंट्स को उनकी एक्टिविटीज पर पूरा ध्यान देने की जरूरत होती है।

वैसे तो आप अपने बच्चों की फोन की लत एक दिन में नहीं छुड़ा सकते लेकिन रोज थोड़ी थोड़ी कोशिश करने में और उन्हें कुछ नई चीज सिखा कर आप उनके फोन की लत को पहले से कम कर सकते हैं।

ऐज रेटिंग देखें

जिन गेम्स को आपका बच्चा लगातार खेल रहा है आप उसकी गूगल प्ले पर एज रेटिंग अवश्य देख लें। यदि वह गेम आपके बच्चे की उम्र में नहीं खेली जाती तो कोशिश करें और अपने बच्चों को उसे बारे में अवेयर करें।

लेकिन याद रहे ऐसे में आपका लहजा बिल्कुल नरम होना चाहिए। ऐसे में आप अपने बच्चों को ऑनलाइन गेम्स खेलने के नुकसानों से इंटरनेट पर मौजूद कुछ फैक्ट्स दिखाकर समझ सकते हैं। बच्चा वैसे शायद आपकी कहीं बातों को सीरियसली ना ले, लेकिन इंटरनेट के माध्यम से बताई गई जानकारी को वह अवश्य समझेंगे।

हिंसक गेम्स न खेलने दें

पेरेंट्स ध्यान दें कि वह अपने बच्चों को हिंसक और मारपीट वाली गेम्स खेलने से दूर रखें यह उनके दिमाग पर बुरा प्रभाव डाल सकती हैं।

इनका इफेक्ट इतना खतरनाक है कि बच्चे का मन सचमुच बंदूक या चाकू चलाने का ही करने लगता है और मौका मिलने पर वे किसी भी बुरी घटना को अंजाम दे सकते हैं।

ऐसी गेम्स खेलने से आपका बच्चा गुस्से वाला बन सकता है और वर्चुअल और असल जिंदगी में फर्क करना भूल जाएगा।

खुद पर भी दें ध्यान

अगर एक ओर आप उनसे ऑनलाइन गेम्स और मोबाइल से दूर रहने के लिए कह रहे हैं वहीं दूसरी तरफ खुद दिनभर मोबाइल से चिपके हुए हैं तो ऐसे में ये चीज आपके बच्चे पर गलत असर डालेगी और वो आपकी बातों को नहीं समझंगे। ऐसे में ध्यान रहे कि आप खुद भी उसके सामने इन गैजेट्स से थोड़ी दूरी बनाएं।

दिन भर की ताजा खबरों के अपडेट के लिए WhatsApp प NewsGha Media के इस लिंक को क्लिक कर चैनल को फ़ॉलो करें।

Written by Newsghat Desk

Shillai News: बकरास में प्रस्तावित सरकार गांव के द्वार कार्यक्रम के लिए एडीएम एलआर वर्मा ने दिए ये जरूरी निर्देश

Paonta Sahib: 21 जनवरी को प्रस्तावित रामलला शोभा यात्रा को लेकर रणनीति तैयार की! हिंदू जागरण मंच की बैठक में चर्चा देखें पूरी डिटेल