Paonta Cong
in

Parenting Tips: भारतीय माता-पिता की ये 13 आदतें बच्चों को नहीं बढ़ने देती है आगे, नहीं हो पाते बच्चे कामयाब…..

Parenting Tips: भारतीय माता-पिता की ये 13 आदतें बच्चों को नहीं बढ़ने देती है आगे, नहीं हो पाते बच्चे कामयाब…..

JPERC
JPERC

 

Admission notice

बच्चों के लिए पहला स्कूल उसका घर और पहले शिक्षक उन्हीं के माता-पिता होते हैं बच्चा जैसा माहौल घर में देखता है वैसी ही आदतें सीखता है।जिस तरह का बर्ताव उसके माता-पिता उसके सामने करते हैं उसी तरह का व्यवहार वह अपने आने वाले जीवन में उतार लेता है। ऐसे में पेरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें हैं जिनकी वजह से बच्चे का जीवन पूर्णता बर्बाद हो जाता है जिसे सुधारने की खास जरूरत है जानिए क्या?

एक अच्छी परवरिश माता पिता के लिए एक बड़ी चुनौती होता है कई बार तो यह तय करना मुश्किल हो जाता है कि कौन सी चीज उनके बच्चे के लिए ठीक है और कौन सी नहीं और अक्सर पर पेरेंट्स ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जो कि उनके बच्चे के लिए सही नहीं होती ऐसे में हम आपको कुछ ऐसी आदतों से अवगत करवाने जा रहे हैं जिससे उनके बच्चे की जिंदगी तहस-नहस हो जाती है आइए जानते हैं कौन सी है वह आदतें…

NewsGhat Parenting Guide से जुड़ने के लिए इस लिंक को क्लिक करें और न्यूज़ घाट कम्युनिटी ज्वॉइन करें।

बाहर खेलने की बजाय स्क्रीन्स का इस्तेमाल करने देना-

आपने देखा होगा कि बच्चे आजकल बाहर ग्राउंड में जाकर खेलने की बजाय फोन या लैपटॉप टैबलेट में गेम खेलना पसंद करते हैं। ऐसे में आपका बच्चा टेक्निकल तो स्मार्ट बनता है लेकिन उसकी ओवरऑल ग्रोथ पर इसका बहुत बुरा असर पड़ता है।बच्चे की आंखें लगातार स्क्रीन में देखने से खराब हो जाती हैं शारीरिक और मेंटल हेल्थ पर इसका बहुत बुरा असर देखने को मिलता है।

नखरों को प्यार समझना-

पेरेंट्स अक्सर अपनी एनर्जी और समय की बचत को देखते हुए बच्चे की हर एक विद को पूरी करने लग जाते हैं ऐसे में आपका बच्चा अपनी भावनाओं को काबू करना नहीं सीखता है। बच्चा सही और गलत में अंतर करना कभी जिंदगी में नहीं सीख पाता है।

हार नहीं, हमेशा जीतना-

आधुनिक समय में कंपटीशन का दौर बहुत ज्यादा देखने को मिल रहा है माता पिता अक्सर अपने बच्चे को जीतने की शिक्षा देते हैं तथा उन्हें प्रोत्साहित करते हैं। बच्चों को केवल जीतने की ही आदत नहीं होनी चाहिए बल्कि बच्चों को फैलियर्स को भी डील करना आना चाहिए वैसे तो कोई भी माता-पिता नहीं चाहेगा कि उनका बच्चा हार जाए या फिर बने लेकिन आपको अपने बच्चे को हर परिस्थिति को हैंडल करना सिखाना चाहिए तभी उसका सही विकास होगा।

तुलना करना-

आपको अपने बच्चे की तुलना कभी भी किसी से नहीं करनी चाहिए क्योंकि हर एक इंसान में अपनी ही खूबी और अपनी ही कमियां होती है। संभव है कि आपके बच्चे में भी कुछ ऐसा गुण होगा जो किसी और बच्चे में नहीं होगा और दूसरे बच्चों में भी कुछ ऐसे गुण होंगे जो आपके बच्चों में नहीं होंगे तो ऐसे में अपने बच्चे की तुलना कभी किसी से ना करें क्योंकि ऐसे में बच्चे के मन में हीन भावना पैदा होती है।

सिखाने की बजाय डांटना-

माता पिता अक्सर अपने बच्चों को कुछ गलत करने पर उसे सिखाने की बजाय डांटने लगते हैं जिसका असर बच्चे पर सीधा-सीधा पड़ता है भविष्य में आपका बच्चा आपसे कुछ भी पूछने से डरने लगता है और उसका पेरेंट्स के चिल्लाने और गुस्सा करने से बच्चे का व्यवहार गुस्सैल हो जाता हैं।

चीजों को ना छोड़ पाना-

एक अच्छे माता पिता का फर्ज होता है अपने बच्चों को हेल्दी भविष्य देना ऐसे में पेरेंट्स को खुद में कई प्रकार के बदलाव करने होते हैं। अगर आप अपने बच्चे में कुछ बदलाव चाहते हैं तो जरूरी है कि आप को अपने अंदर भी कुछ बदलाव कर लेनी चाहिए मान लीजिए यदि आपका बच्चा जंक फूड खाने की जिद करता है तो जरूरी है कि पहले आपको जंक फूड का सेवन करना बंद करना होगा तभी आप अपने बच्चे को उसके बारे में सीख दे सकते हैं कि उनके लिए क्या खाना बेहतर है और क्या नहीं। कुल मिलाकर बात इतनी है कि यदि आप उम्मीद करते हैं कि आपका बच्चा बेहतर बने तो उसके लिए सर्वप्रथम आपको बेहतर बनना पड़ेगा।

ऑप्शन देना और फैसला करने की आजादी-

पेरेंट्स अक्सर बच्चे को किसी भी आपात परिस्थिति से निबटने के लिए बच्चे को बहुत सारे ऑप्शन दे देते हैं, और बच्चों को खुद फैसला लेने के लिए कह देते हैं। वैसे तो खुद फैसला लेने में कोई बुराई नहीं है लेकिन बच्चे कई बार फैसला लेने की बजाए,परिस्थिति का सामना करने की बजाय, एडजस्टमेंट बनाने की बजाय कोई अन्य विकल्प चुन लेते हैं।

मांगने से पहले ही इच्छा पूरी करना-

माता-पिता की बच्चों को बिगाड़ने में सबसे पहले गलती होती है कि बच्चों के बोलने से पहले उनकी इच्छा को पूरा कर देना जिसका प्रभाव बच्चों की रोजमर्रा जिंदगी के साथ साथ आगामी जिंदगी को भी प्रभावित करता है और आपके बच्चे को एक लग्जरी लाइफ जीने की आदत पड़ जाती है जो कि उनके लिए कतई सही नहीं है। एक अच्छे माता-पिता को अपने बच्चे की उन ही इच्छाओं को पूरा करना चाहिए जिनकी बच्चे को असल में जरूरत है और जब तक आपका बच्चा उस चीज का जिक्र नहीं करता है, आपको अपने बच्चे को बेवजह हाथी और जिद्दी नहीं बनाना चाहिए।

बच्चों के सामने झूठ बोलना-

माता-पिता को अपने बच्चे के सामने भूलकर भी झूठ का सहारा नहीं लेना चाहिए क्योंकि बच्चा देखता है कि किसी भी कठिन परिस्थिति में बचने के लिए माता-पिता अगर झूठ का सहारा लेते हैं और स्थिति को संभाल लेते हैं तो ऐसे में आपका बच्चा आपसे यह ट्रिक सीख लेता है और किसी भी मुश्किल घड़ी में खुद को बचाने के लिए झूठ बोलने लगता है जो उसके भविष्य पर बुरा प्रभाव डालता है तो माता-पिता ध्यान रखें कि अपने बच्चे के सामने कभी भी झूठ का सहारा ना लें।

बच्चों को बड़ों की बातों में शामिल करना-

जब माता-पिता बात कर रहे हो तो ऐसे में बच्चों का बीच में बोलना या बैठना कतई उचित नहीं है क्योंकि जब माता-पिता बेवजह बच्चों को बड़ों की बात में इंवॉल्व करने लगते हैं तो बच्चा दिमाग में उन चीजों को लेकर जजमेंट करना शुरू कर देता है जो कि उसके मानसिक विकास के लिए अच्छा नहीं है, हो सके बच्चों को बड़ों की बातों से दूर ही रखें।

सब्र

सब्र आजकल की पीढ़ी के सामने एक चुनौती चुनौती है क्योंकि आजकल की पीढ़ी के बच्चे सब्र नाम की चीज को पहचानते तक नहीं है। जरूरी है कि जब ऐसी गंभीर परिस्थितियां हो जोकि आपके बस से बाहर हो तो आपको यानी एक अच्छे पेरेंट्स को अपने बच्चे में सब्र करने की आदत को जरूर डालना चाहिए।

नाकामियों के लिए बच्चे को दोष देना-

बच्चे को जन्म देना माता-पिता का अपना पर्सनल फैसला होता है तो ऐसे में बच्चे के खराब बर्ताव होने के कारण बच्चे को दोष कभी नहीं देना चाहिए। बच्चे के बर्ताव को लेकर भले ही आपके मन में कितनी ही परेशानी क्यों ना हो पर अपना गुस्सा कभी भी अपने बच्चे पर ना निकाले।

फिजूलखर्ची –

फिजूलखर्ची करने की आदत बच्चों में अपने माता पिता के कारण आती है यदि माता-पिता ही बेवजह खर्च करते हैं,तो बच्चे भी उन्हीं की आदत को कैरी कर लेते हैं। बेवजह खर्च करने के बजाय बच्चों की हर जिद पूरी करने की वजह बच्चों को पैसे का महत्व बताना चाहिए, ताकि बच्चा अपने भविष्य में कुछ ऐसे करने की इच्छा करें जिससे कि वह अपनी मेहनत के बलबूते पर बहुत सारा पैसा कमा सके और पैसे की अहमियत को समझ सके।

Written by Newsghat Desk

पांवटा साहिब में भगवान श्री वामन द्वादशी के महापर्व में निकली भव्य शोभायात्रा,भक्तों का उमड़ा जनसैलाब….

पूर्व सैनिक संगठन ने शहीद कमलकांत को की श्रद्धांजलि अर्पित, दुश्मनों को लोहा लेते हो गए थे शहीद…..