Paonta Cong
in , , ,

SEBI New Rules: म्यूचुअल फंड में निवेश की सोच रहे हैं तो जान लें क्या है SEBI का नया नियम! पढ़ें म्यूचुअल फंड निवेशकों के लिए क्या बदलाव हुए?

SEBI New Rules: म्यूचुअल फंड में निवेश की सोच रहे हैं तो जान लें क्या है SEBI का नया नियम! पढ़ें म्यूचुअल फंड निवेशकों के लिए क्या बदलाव हुए?

SEBI New Rules: म्यूचुअल फंड में निवेश की सोच रहे हैं तो जान लें क्या है SEBI का नया नियम! पढ़ें म्यूचुअल फंड निवेशकों के लिए क्या बदलाव हुए?
SEBI New Rules: म्यूचुअल फंड में निवेश की सोच रहे हैं तो जान लें क्या है SEBI का नया नियम! पढ़ें म्यूचुअल फंड निवेशकों के लिए क्या बदलाव हुए?

SEBI New Rules: म्यूचुअल फंड में निवेश की सोच रहे हैं तो जान लें क्या है SEBI का नया नियम! पढ़ें म्यूचुअल फंड निवेशकों के लिए क्या बदलाव हुए?

JPERC
JPERC

SEBI New Rules: बाजार नियामक, सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) ने एक नया ढांचा (फ्रेमवर्क) जारी किया है। चलिए देखते हैं कि इसका क्या मतलब है और इससे निवेशकों को कैसे लाभ होगा?

SEBI New Rules: म्यूचुअल फंड में निवेश की सोच रहे हैं तो जान लें क्या है SEBI का नया नियम! पढ़ें म्यूचुअल फंड निवेशकों के लिए क्या बदलाव हुए?

Admission notice

SEBI New Rules: भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने हाल ही में एक नया फ्रेमवर्क जारी किया है, जिससे निजी इक्विटी फंड्स को म्यूचुअल फंड हाउसों को प्रायोजन करने की अनुमति मिलेगी।

इसके साथ ही, बाजार नियामक ने स्वयं को प्रायोजन करने वाली एसेट मैनेजमेंट कंपनियों (AMCs) के लिए नियम भी जारी किए हैं।

सेबी के एक आदेश में कहा गया है कि आवेदक के पास कम से कम पांच साल का फंड मैनेजर के रूप में और वित्तीय सेक्टर में निवेश का अनुभव होना चाहिए।

इसके अलावा, आवेदक के पास कम से कम 5,000 करोड़ रुपए का प्रबंधित, प्रतिबद्ध और निष्पादित पूंजी होना चाहिए।

देश दुनिया और वित्तीय जगत के ताजा समाचार जानने के लिए न्यूज़ घाट व्हाट्सएप समूह से जुड़े। नीचे दिए लिंक पर अभी क्लिक करें

फिर भी, सेबी ने बताया है कि निजी इक्विटी फंड द्वारा प्रायोजित म्यूचुअल फंड किसी भी निवेश कंपनी के सार्वजनिक मुद्राण (IPO) में एंकर निवेशक के रूप में हिस्सा नहीं लेगा, जहां प्रायोजक PE (मूल्य-आय अनुपात) द्वारा प्रबंधित किसी भी योजना और फंड में 10 प्रतिशत या उससे अधिक का निवेश या बोर्ड का प्रतिनिधित्व हो।

सेबी ने अपने आदेश में कहा है कि म्यूचुअल फंड उद्योग को विस्तारित करने के लिए और नए प्रकार के खिलाड़ियों को म्यूचुअल फंड के प्रायोजक के रूप में काम करने की सुविधा प्रदान करने के लिए, योग्यता मानदंडों का एक वैकल्पिक सेट प्रस्तुत किया गया है।

नवाचार को प्रोत्साहन मिलेगा

इसका उद्देश्य उद्योग में नए पूंजी प्रवाह को सुगम बनाना, नवाचार और प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देना, विलय को सुगम बनाना और मौजूदा प्रायोजकों के लिए निकासी (Exit) को सुगम बनाना है।

सेबी ने यह भी कहा है कि स्वयं को प्रायोजन करने वाली एसेट मैनेजमेंट कंपनियां (AMCs) कुछ निर्धारित पात्रता मानदंडों को पूरा करने की शर्त पर म्यूचुअल फंड का कारोबार जारी रख सकती हैं।

देश दुनिया और वित्तीय जगत के ताजा समाचार जानने के लिए न्यूज़ घाट व्हाट्सएप समूह से जुड़े। नीचे दिए लिंक पर अभी क्लिक करें

Written by newsghat

IRDA New Direction: बाढ़ प्रभावित पॉलिसी धारकों को लेकर IRDAI ने बीमा कंपनियों को दिया ये सख्त आदेश! जानें IRDAI के इस आदेश से इसे मिलेगा लाभ

IRDA New Direction: बाढ़ प्रभावित पॉलिसी धारकों को लेकर IRDAI ने बीमा कंपनियों को दिया ये सख्त आदेश! जानें IRDAI के इस आदेश से इसे मिलेगा लाभ

PrdhanMantri Fasal Bima Yojana: अभी तक नही लिया प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ तो जल्दी करें सरकार ने बढ़ाई अंतिम तिथि

PrdhanMantri Fasal Bima Yojana: अभी तक नही लिया प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ तो जल्दी करें सरकार ने बढ़ाई अंतिम तिथि