in

Sirmour News: भारतीय वायु सेना में फ्लाइंग ऑफिसर बना सिरमौर का बेटा राजवंश

Sirmour News: भारतीय वायु सेना में फ्लाइंग ऑफिसर बना सिरमौर का बेटा राजवंश

Sirmour News: भारतीय वायु सेना में फ्लाइंग ऑफिसर बना सिरमौर का बेटा राजवंश

Sirmour News: भारतीय वायु सेना में फ्लाइंग ऑफिसर बना सिरमौर का बेटा राजवंश

Admission notice

Sirmour News: जिला सिरमौर के बेटे ने भारतीय वायु सेना में फ्लाइंग ऑफिसर बनकर समूचे जिला का नाम रोशन कर दिया है। युवक की इस सफलता से एक तरफ जहां परिजन खुशी से फुला नहीं समा रहे तो वहीं दूसरी तरफ घर में बधाइयां देने वालों का ताता लगा हुआ है।

Sirmour News: भारतीय वायु सेना में फ्लाइंग ऑफिसर बना सिरमौर का बेटा राजवंश

JPREC-June
JPREC-June
Sniffers 04
Sniffers 04

बता दें कि राजवंश शर्मा पच्छाद के सेर-कुईना गांव के रहने वाले हैं जो महज 21 साल की उम्र में फ्लाइंग ऑफिसर के रूप में भारतीय वायु सेना की फाइटर स्ट्रीम में शामिल हुए है। राजवंश शर्मा वर्ष 2020 में एनडीए फ्लाइंग ब्रांच में शामिल हुए थे।

जिसके बाद वह खडकवासला में राष्ट्रीय रक्षा अकादमी से पास आउट हुए और भारतीय वायु सेना में फ्लाइंग ऑफिसर बन गए। उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा गलानाघाट सरकारी प्राथमिक विद्यालय से पूरी की।

दिन भर की ताजा खबरों के अपडेट के लिए WhatsApp NewsGhat Media के इस लिंक को क्लिक कर चैनल को फ़ॉलो करें।

जिसके बाद उनका सैनिक स्कूल सुजानपुर टीरा के लिए चयन हुआ। राजवंश शर्मा के पिता रमेश दत्त शर्मा स्कूल लेक्चरर है जबकि माता कमलेश शर्मा टीजीटी शिक्षण पेशे में कार्यरत हैं।

वही राजवंश ने अपनी इस सफलता का श्रेय माता-पिता के साथ-साथ गुरुजनों को भी दिया है। राजवंश ने बताया कि उसका शुरू से ही भारतीय सेना में जाकर देश सेवा करने का सपना था जो कि आज साकार हो गया है।

दिन भर की ताजा खबरों के अपडेट के लिए WhatsApp NewsGhat Media के इस लिंक को क्लिक कर चैनल को फ़ॉलो करें।

Written by News Ghat

Himachal News Alert: गाड़ी को ओवरटेक करते सड़क किनारे खड़े ट्रक से टकराई बाइक! युवक की मौत

Himachal News Alert: गाड़ी को ओवरटेक करते सड़क किनारे खड़े ट्रक से टकराई बाइक! युवक की मौत

Himachal Tourism: हिमाचल में वीकेंड पर सैलानियों का जमावड़ा! होटलों में 90% से ज्यादा ऑक्युपेंसी

Himachal Tourism: हिमाचल में वीकेंड पर सैलानियों का जमावड़ा! होटलों में 90% से ज्यादा ऑक्युपेंसी