Paonta Cong
in

Line of Credit : पर्सनल लोन का बेहतर विकल्प हो सकता है लाईन ऑफ क्रैडिट, शायद आपको भी नहीं है इसकी जानकारी

Line of Credit : पर्सनल लोन का बेहतर विकल्प हो सकता है लाईन ऑफ क्रैडिट, शायद आपको भी नहीं है इसकी जानकारी
Line of Credit : पर्सनल लोन का बेहतर विकल्प हो सकता है लाईन ऑफ क्रैडिट, शायद आपको भी नहीं है इसकी जानकारी

Line of Credit : पर्सनल लोन का बेहतर विकल्प हो सकता है लाईन ऑफ क्रैडिट, शायद आपको भी नहीं है इसकी जानकारी

Admission notice

Line of Credit : लोन का यह खास विकल्प मुश्किल समय में आपके लिए मददगार साबित हो सकता है, ज्यादातर लोगों को इसकी जानकारी नहीं होती है। कई बार स्थिति ऐसी बन जाती है कि व्यक्ति को कर्ज लेकर अपनी जरूरतों को पूरा करने के अलावा कोई विकल्प नजर नहीं आता है।

ऐसे में एक लाइन ऑफ क्रेडिट आपके लिए काफी मददगार साबित हो सकता है। ज्यादातर लोगों को इसकी जानकारी नहीं होती है। आज हम यहां इसी बारे में बात करेंगे।

Line of Credit : मुश्किल वक्त कभी भी किसी के भी सामने आ सकता है। कई बार स्थिति ऐसी हो जाती है कि पैसे की बहुत जरूरत पड़ती है, लेकिन कहीं से इंतजाम नहीं हो पाता। ऐसे में कई बार पर्सनल लोन लेने की जरूरत पड़ जाती है.

अगर आपके सामने ऐसी स्थिति आती है तो आप पर्सनल लोन की जगह लाइन ऑफ क्रेडिट सुविधा का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। लोग इसे क्रेडिट लाइन भी कहते हैं। लाइन ऑफ क्रेडिट के कई फायदे हैं। इसके बारे में यहां जानिए।

Line of Credit : लाइन ऑफ क्रेडिट क्या है ?

लाइन ऑफ़ क्रेडिट एक निश्चित राशि है जो आपको बैंक या वित्तीय संस्थान द्वारा ऋण के रूप में खर्च करने के लिए दी जाती है।

इसका फायदा यह है कि आप उस रकम में से जितनी रकम का इस्तेमाल करते हैं, उस रकम पर आपको सिर्फ ब्याज देना होता है। शेष राशि क्रेडिट लाइन में पड़ी रहती है।

इस पर न तो कोई ब्याज लगता है और न ही कोई पेनाल्टी। वहीं पर्सनल लोन में आप जितनी रकम कर्ज के रूप में लेते हैं, उस पूरी रकम पर आपको ब्याज देना होता है.

उदाहरण से ऐसे समझें….

मान लीजिए कि आपको क्रेडिट लाइन के जरिए बैंक से 2 लाख रुपये का कर्ज मिला है। लेकिन अगर आपको उसमें से केवल 1 लाख रुपये खर्च करने की जरूरत है, तो ब्याज भी केवल 1 लाख रुपये पर ही लागू होगा।

शेष 1 लाख रुपये पर कोई जुर्माना या ब्याज नहीं लिया जाएगा। यह विकल्प उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है, जिन्हें पैसों की जरूरत तो है, लेकिन यह नहीं पता कि कितनी राशि खर्च की जाएगी।

ऐसे में यदि क्रेडिट लाइन के माध्यम से अधिक राशि प्राप्त करने के बाद भी कम राशि खर्च की जाती है तो उस राशि पर ही ब्याज देना होता है।

Line of Credit : लाइन ऑफ क्रेडिट की राशि कैसे तय की जाती है ?

लाइन ऑफ क्रेडिट के माध्यम से आप 3000 रुपये से लेकर 10 लाख रुपये तक प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन कोई भी वित्तीय संस्थान या बैंक आपको लाइन ऑफ क्रेडिट के रूप में जो राशि देगा, वह आपके क्रेडिट स्कोर और वित्तीय क्षमता पर निर्भर करता है।

क्रेडिट लाइन की प्रारंभिक सीमा, इसकी ब्याज दर और अन्य शर्तें ऋण जारी करने वाले बैंक या अन्य वित्तीय संस्थान द्वारा निर्धारित की जाती हैं। ये बैंक या वित्तीय संस्थान या ऋण एपीपी द्वारा निर्धारित किए जाते हैं जो ऋण जारी करता है।

Line of Credit : ये फायदे भी जानिए

कई मामलों में लाइन ऑफ क्रेडिट को पर्सनल लोन से बेहतर माना जाता है। क्रेडिट लाइन में प्रीपेमेंट शुल्क का कोई चक्र नहीं है। आप अपनी सुविधा के अनुसार राशि खर्च कर सकते हैं।

अगर इसमें आपका पैसा कम खर्च होता है तो पूरी रकम पर नहीं बल्कि कम रकम पर ही ब्याज देना होगा। हालांकि, क्रेडिट लाइन की एक खामी यह है कि इसकी ब्याज दरें कभी-कभी व्यक्तिगत ऋण की तुलना में अधिक होती हैं।

ऐसे में इस सुविधा का लाभ उठाने से पहले उस जरूरत और समय अवधि का मूल्यांकन कर लें, जिसके लिए आपको पैसे की जरूरत है।

Written by newsghat

Paonta Sahib: कृषि विज्ञान केंद्र सिरमौर वैज्ञानिक सलाहकार समिति की 42वीं बैठक संपन्न

Extra Marital Relationship Dating App: ओह! यहां शादीशुदा लोग क्यों कर रहे नए पार्टनर के तलाश, पढ़ें विस्तृत रिपोर्ट

Extra Marital Relationship Dating App: ओह! यहां शादीशुदा लोग क्यों कर रहे नए पार्टनर के तलाश, पढ़ें विस्तृत रिपोर्ट